एलआईसी का जीवन रक्षक (Jeevan Rakshak) प्लान एक ऐसा नॉन-लिंक, सहभागिता प्लान है जो सुरक्षा और बचत का समायोजन प्रदान करता है. यह प्लान परिपक्वता से पहले पॉलिसीधारक की किसी भी समय दु:खद मृत्यु हो जाने पर परिवार को वित्तीय सहायता प्रदान करता है और जीवित पॉलिसीधारक को परिपक्वता के समय एकमुश्त राशि प्रदान करता है. यह प्लान, अपनी ऋण सुविधा के माध्यम से तरलता आवश्यकताओं का भी ध्यान रखता है.

जीवन रक्षक में (Jeevan Rakshak) हितलाभ:

  • मृत्यु हितलाभ:
    यदि सभी देय प्रीमियम का भुगतान कर दिया गया हो तो पॉलिसी अवधि के दौरान मृत्यु होने की स्थिति में,”मृत्यु होने पर मिलने वाली बीमा राशि” निम्न में से जो अधिकतम होगा, वही देय होगी

    1. मूल बीमा राशि या
    2. वार्षिकीकृत प्रीमियम का 10 गुना या
    3. मृत्यु तिथि तक चुकाए गए सभी प्रीमियम का 105%.

    उपरोक्त निर्दिष्ट प्रीमियम में सेवा कर, अतिरिक्त प्रीमियम और दु्र्घटना हितलाभ राइडर प्रीमियम, यदि कोई हो, तो वह शामिल नहीं है.
    उपरोक्त के अतिरिक्त, यदि मृत्यु पाँचवा पॉलिसी वर्ष पूर्ण होने पर होती है, तो सहभागिता लाभ, यदि कोई हो, तो वह भी देय होगा.

  • परिपक्वता लाभ:
    मूल बीमा राशि के साथ सहभागिता हितलाभ, यदि कोई हो, तो जीवित रहने पर पॉलिसी अवधि की समाप्ति पर देय होगा, बशर्ते सभी देय प्रीमियम का भुगतान किया गया हो.
  • लाभ में सहभागिता:
    बशर्ते कि पॉलिसी चालू हो, निगम के अनुभव के आाधार पर, इस प्लान के अंतर्गत शामिल पॉलिसी, सहभागिता लाभ के योग्य होगी. सहभागिता लाभ, यदि कोई हो, तो वह पाँचवा पॉलिसी-वर्ष पूर्ण होने पर मृत्यु हो जाने या पॉलिसीधारक के परिपक्वता अवधि तक जीवित रहने पर, निगम द्वारा घोषित की जाने वाली संभावित दरों एवं शर्तों पर देय होता है.

Eligibility conditions for Jeevan Rakshak (Plan No. 827)

जीवन रक्षक में (Jeevan Rakshak) वैकल्पिक हितलाभ:

एलआईसी का दुर्घटना हितलाभ राइडर: दुर्घटना हितलाभ राइडर, अतिरिक्त प्रीमियम का भुगतान करने पर वैकल्पिक राइडर के रूप में उपलब्ध है. दुर्घटना में मृत्यु होने की स्थिति में, मूल प्लान के अंतर्गत दुर्घटना हितलाभ बीमा राशि का भुगतान एकमुश्त राशि के रूप में मृत्यु हितलाभ के साथ किया जाएगा

प्रीमियम का भुगतान:

पॉलिसी अवधि पूरी होने तक प्रीमियम का भुगतान नियमित रूप से वार्षिक, अर्धवार्षिक, त्रैमासिक या मासिक (केवल ईसीएस विधि के द्वारा) मोड या वेतन कटौतियों के माध्यम से किया जा सकता है. हालांकि, वार्षिक, अर्द्ध-वार्षिक या तिमाही प्रीमियम भुगतान के लिए एक माह लेकिन कम-से-कम 30 दिनों की और मासिक प्रीमियमों के लिए 15 दिन की रियायती अवधि दी जाएगी.

प्रकार एवं उच्च मूल बीमाकृत राशि छूटें:

प्रकार में छूट:

वार्षिक प्रकार                                    – तालिका प्रीमियम का 2%

अर्ध-वार्षिक प्रकार                            – तालिका प्रीमियम का 1%

त्रैमासिक एवं मासिक प्रकार              – कुछ नहीं

उच्च मूल बीमाकृत राशि छूट:

मूल बीमाकृत राशि                                      – छूट (रू)

75000 से 145000                                    – कुछ नहीं

150000 से एवं उससे अधिक                     – रू. 1.5 %0 बीमाकृत राशि

पॉलिसी ऋण:

पॉलिसी द्वारा अभ्यर्पण मूल्य प्राप्त लेने पर और उन नियमों और शर्तों के तहत जिन्हें निगम द्वारा समय-समय पर निर्दिष्ट किया जाता है, इस पॉलिसी के अंतर्गत ऋण का लाभ लिया जा सकता है.

जीवन रक्षक  (Jeevan Rakshak) में पुनर्चलन:

यदि प्रीमियम का भुगतान रियायती अवधि में नहीं किया गया, तो पॉलिसी कालातीत हो जाएगी. कालातीत पॉलिसी का पुनर्चलन पहले अदत्त प्रीमियम की देय तिथि और परिपक्व होने की तिथि, जो भी हो, से पहले 2 लगातार वर्षों की अवधि में भुगतान के समय निगम द्वारा निर्धारित दर पर ब्याज (चक्रवृद्धि अर्धवार्षिक) सहित प्रीमियम के सभी बकाया की अदायगी करके संतुष्टि के अनुरूप सतत बीमित बने रहने की योग्यता का प्रमाण प्रस्तुत करके किया जा सकता है.
यदि दुर्घटना हितलाभ राइडर के पुनर्चलन का विकल्प चुना गया हो, तो दुर्घटना हितलाभ राइडर, का पुनर्चलन मूल प्लान के साथ ही हो जाएगा और उसका पुनर्चलन अलग-से नहीं होगा.

अभ्यर्पण मूल्य:

पॉलिसी को नकद राशि के लिए अभ्यर्पित किया जा सकता है बशर्ते कम-से-कम तीन पूर्ण वार्षिक प्रीमियम का भुगतान किया गया हो. गारंटीकृत अभ्यर्पण मूल्य, कुल भुगतान किए गए प्रीमियम (सेवा कर घटाकर), अतिरिक्त प्रीमियम और राइडर हेतु प्रीमियम, यदि इसका विकल्प चुना गया हो, तो उसे छोड़कर, का प्रतिशत होगा. यह प्रतिशत पॉलिसी अवधि और उस पॉलिसी वर्ष पर निर्भर करेंगे जिसमें पॉलिसी अभ्यर्पित की जाती है, और इन्हें नीचे दिए गए अनुसार निर्दिष्ट किया गया है:

5 Comments

Leave a Reply